स्वामी विवेकानंद ने शिकागो के भाषण में क्या कहा था?

Posted on 07 Oct 2017 -by Watchdog

अमेरिका के बहनों और भाइयो..!! आपके इस स्नेहपूर्ण और जोरदार स्वागत से मेरा हृदय अपार हर्ष से भर गया है. मैं आपको दुनिया की सबसे प्राचीन संत परंपरा की तरफ से धन्यवाद देता हूं. मैं आपको सभी धर्मों की जननी की तरफ से धन्यवाद देता हूं और सभी जाति, संप्रदाय के लाखों, करोड़ों हिन्दुओं की तरफ से आपका आभार व्यक्त करता हूं. मेरा धन्यवाद कुछ उन वक्ताओं को भी जिन्होंने इस मंच से यह कहा कि दुनिया में सहनशीलता का विचार सुदूर पूरब के देशों से फैला है. मुझे गर्व है कि मैं एक ऐसे धर्म से हूं, जिसने दुनिया को सहनशीलता और सार्वभौमिक स्वीकृति का पाठ पढ़ाया है. हम सिर्फ सार्वभौमिक सहनशीलता में ही विश्वास नहीं रखते, बल्कि हम विश्व के सभी धर्मों को सत्य के रूप में स्वीकार करते हैं.

मुझे गर्व है कि मैं एक ऐसे देश से हूं, जिसने इस धरती के सभी देशों और धर्मों के परेशान और सताए गए लोगों को शरण दी है. मुझे यह बताते हुए गर्व हो रहा है कि हमने अपने हृदय में उन इस्त्राइलियों की पवित्र स्मृतियां संजोकर रखी हैं, जिनके धर्म स्थलों को रोमन हमलावरों ने तोड़-तोड़कर खंडहर बना दिया था. और तब उन्होंने दक्षिण भारत में शरण ली थी. मुझे इस बात का गर्व है कि मैं एक ऐसे धर्म से हूं, जिसने महान पारसी धर्म के लोगों को शरण दी और अभी भी उन्हें पाल-पोस रहा है. भाइयो, मैं आपको एक श्लोक की कुछ पंक्तियां सुनाना चाहूंगा जिसे मैंने बचपन से स्मरण किया और दोहराया है और जो रोज करोड़ों लोगों द्वारा हर दिन दोहराया जाता है:

 

संस्कृत श्लोक –

“रुचीनां वैचित्र्यादृजुकुटिलनानापथजुषाम् ।

नृणामेको गम्यस्त्वमसि पयसामर्णव इव”।।

 

हिन्दी अनुवाद-:

जैसे विभिन्न नदियां अलग-अलग स्रोतों से निकलकर समुद्र में मिल जाती हैं ठीक उसी प्रकार से अलग-अलग रुचि के अनुसार विभिन्न टेढ़े-मेढ़े अथवा सीधे रास्ते से जाने वाले लोग अन्त में भगवान में ही आकर मिल जाते हैं. यह सभा जो अभी तक की सर्वश्रेष्ठ पवित्र सम्मेलनों में से एक है, स्वतः ही गीता के इस अदभुत उपदेश का प्रतिपादन एवं जगत के प्रति उसकी घोषणा करती है.

 

संस्कृत श्लोक –

“ये यथा मां प्रपद्यन्ते तांस्तथैव भजाम्यहम्।

मम वर्त्मानुवर्तन्ते मनुष्याः पार्थ सर्वशः”।।

 

हिन्दी अनुवाद-

जो कोई मेरी ओर आता है वह चाहे किसी प्रकार से हो, मैं उसको प्राप्त होता हूं. लोग अलग-अलग रास्तो द्वारा प्रयत्न करते हुए अन्त में मेरी ही ओर आते हैं.

सांप्रदायिकताएं, कट्टरताएं और इसके भयानक वंशज हठधमिर्ता लंबे समय से पृथ्वी को अपने शिकंजों में जकड़े हुए हैं. इन्होंने पृथ्वी को हिंसा से भर दिया है. कितनी बार ही यह धरती खून से लाल हुई है. कितनी ही सभ्यताओं का विनाश हुआ है और न जाने कितने देश नष्ट हुए हैं.

अगर ये भयानक राक्षस नहीं होते तो आज मानव समाज कहीं ज्यादा उन्नत होता, लेकिन अब उनका समय पूरा हो चुका है. मुझे पूरी उम्मीद है कि आज इस सम्मेलन का शंखनाद सभी हठधर्मिताओं, हर तरह के क्लेश, चाहे वे तलवार से हों या कलम से और सभी मनुष्यों के बीच की दुर्भावनाओं का विनाश करेगा.






किडनी चोरी- ‘मंत्री रेखा आर्य को बर्खास्त करें मुख्यमंत्री’
17 Oct 2017 - Watchdog

सत्ता संरक्षण में रतसर में मुस्लिमों के दुकानों में की गई लूटपाट-आगजनी
17 Oct 2017 - Watchdog

39 लोगों को यूथ आइकॉन अवार्ड, लोकगायक नरेन्द्र सिंह नेगी को जन शिरोमणि सम्मान
16 Oct 2017 - Watchdog

विधायक हरबंश कपूर और मुन्ना सिंह जैसे चेहरे लोकतंत्र के लिए खतरा हैं !
14 Oct 2017 - Watchdog

उत्तराखंड की महिला विकास मंत्री रेखा आर्य के पति पर किडनी चोरी का आरोप
13 Oct 2017 - Watchdog

इतना तेज विकास मोदी के अलावा कौन कर सकता था?
13 Oct 2017 - Watchdog

हल्द्वानी : छात्र संघ चुनाव : हल्द्वानी इंदिरा के हाथ से निकल रहा है ?
12 Oct 2017 - Watchdog

देहरादून में माकपा कार्यालय पर संघ-भाजपा कार्यकर्ताओं का हमला
12 Oct 2017 - Watchdog

पढ़िये, संघियों की देशभक्ति पर एक प्रोेफेसर का खुला खत
09 Oct 2017 - Watchdog

अच्छा है आप बाबा साहेब को गले के नीचे नहीं उतार रहे हैं वो संघियों का पेट फाड़ कर बाहर आ जाएंगे
07 Oct 2017 - Watchdog

“प्राचीन काल में हिन्दू गोमांस खाते थे”
07 Oct 2017 - Watchdog

भक्त मोदी के हर कदम का समर्थन क्यों करते हैं ?
07 Oct 2017 - Watchdog

आरटीआई के खिलाफ मोदी के साथ खड़े हुए वामपंथी!
07 Oct 2017 - Watchdog

मोदी राज में बंद हो जाएंगे 90 फीसदी अखबार!
07 Oct 2017 - Watchdog

अगर ऐसा ही चलता रहा तो पांच साल बाद हर पत्रकार मुकेश अम्बानी की मुठठी में होगाः पी साईंनाथ
07 Oct 2017 - Watchdog

डाॅ अम्बेडकर को भक्त पसंद नहीं थे, यह बात मोदी को समझनी चाहिए
07 Oct 2017 - Watchdog

सोशल मीडिया और सांस्कृतिक राष्ट्रवाद
07 Oct 2017 - Watchdog

ख़बरों को तोड़ने-मरोड़ने और सेंसर करने में वामपंथ भी बराबर का दोषी है
07 Oct 2017 - Watchdog

मीडिया में दलित व अल्पसंख्यक के खिलाफ हिकारत कूट-कूट कर भरी हुई है
07 Oct 2017 - Watchdog

उत्तराखंडः मोदी के सोलर मिशन में 100 करोड़ की खुली लूट
07 Oct 2017 - Watchdog



स्वामी विवेकानंद ने शिकागो के भाषण में क्या कहा था?